×
userImage
Hello
 Home
 Dashboard
 Upload News
 My News
 All Category

 Latest News and Popular Story
 News Terms & Condition
 News Copyright Policy
 Privacy Policy
 Cookies Policy
 Login
 Signup

 Home All Category
Tuesday, Jul 23, 2024,

You Must Know / Discover / India / Maharashtra / Shirdi
शिरडी: फ़कीर से साईं बाबा बनने की असली कहानी, जानिए पूरी सच्चाई

By  Agcnnnews Team
Tue/Jul 09, 2024, 05:48 AM - IST   0    0
  • शिरडी का इतिहास मुख्यतः साईं बाबा के आगमन और उनके जीवन से जुड़ा हुआ है।
  • साईं बाबा एक भारतीय आध्यात्मिक गुरु और फ़कीर थे जिन्हें एक संत माना जाता था।
Shirdi/
अहमदनगर/शिरडी, महाराष्ट्र राज्य के अहमदनगर जिले में स्थित एक छोटा सा कस्बा है, जो अपने धार्मिक और ऐतिहासिक महत्व के कारण विश्वभर में प्रसिद्ध है। यह स्थल आज दुनियाभर में साईं बाबा की नगरी के रूप में जाना जाता है। साईं बाबा एक साधारण जीवन जीते थे और उनका जीवन शिक्षाओं और चमत्कारों से भरा हुआ था। उन्होंने यहाँ के लोगों को सेवा, प्रेम और धर्म की शिक्षाएँ दीं और सभी धर्मों के लोगों को एकता और प्रेम का संदेश दिया। शिरडी के लोग शुरू में साईं बाबा को पागल समझते थे परंतु धीरे-धीरे उनके शक्ति और गुणों को जानने के बाद भक्तों की संख्या बढ़ती गई। आज साईं बाबा का जीवन और शिक्षाएँ श्रद्धालुओं के लिए एक प्रेरणा स्रोत है।
 
शिरडी का इतिहास मुख्यतः साईं बाबा के आगमन और उनके जीवन से जुड़ा हुआ है। साईं बाबा ने 19वीं सदी के उत्तरार्ध और 20वीं सदी के प्रारंभ में शिरडी में अपना अधिकांश जीवन व्यतीत किया। साईं बाबा के बारे में कहा जाता है कि वे 1858 में पहली बार शिरडी आए थे और फिर यहीं बस गए। यहाँ वे भिक्षा मांग कर अपना जीवन यापन करते थे। उनके जन्म और प्रारंभिक जीवन के बारे में बहुत कम जानकारी उपलब्ध है, लेकिन उन्होंने शिरडी में लगभग 60 वर्षों तक निवास किया।
 
साईं बाबा एक भारतीय आध्यात्मिक गुरु और फ़कीर थे जिन्हें एक संत माना जाता था। साईं बाबा ने धर्म या जाति के आधार पर भेदभाव की निंदा की। उनके जीवन काल के दौरान हिंदू और मुस्लिम दोनों अनुयायी थे और आज भी हैं। उनकी शिक्षाओं में हिंदू धर्म और इस्लाम के तत्वों का मिश्रण था। लेकिन जिस मस्जिद में साईं रहते थे, उसे हिंदू नाम द्वारकामाई दिया। उन्होंने एक तपस्वी जीवन व्यतीत किया। उनकी मृत्यु के तुरंत बाद लिखी गई जीवनी, श्री साईं सच्चरित्र के अनुसार, उनके हिंदू भक्त उन्हें हिंदू देवता दत्तात्रेय का अवतार मानते थे। कथित तौर पर बाबा शिरडी गांव में जब पहुंचे थे तब वह लगभग सोलह वर्ष के थे। हालाँकि इस घटना की तारीख के बारे में जीवनीकारों के बीच कोई आपसी सहमति नहीं है। साई सच्चरित्र नामक पुस्तक ग्रामीणों की प्रतिक्रिया और साईं बाबा के आदर्श जीवन का वर्णन करता है।
 
साईं बाबा की ख्याति के साथ-साथ शिरडी का भी विकास हुआ। बाबा के भक्तों ने उनके नाम पर विभिन्न मंदिरों और धर्मशालाओं का निर्माण किया। 15 अक्टूबर 1918 को उन्होंने महासमाधि ली और तब से यह स्थान एक प्रमुख तीर्थस्थल बन गया। शिरडी में साईं बाबा के समाधि मंदिर का निर्माण 1918 में बाबा की महासमाधि के बाद हुआ। इस मंदिर में बाबा की समाधि और उनकी प्रतिमा स्थापित की गई है। शिरडी में साईं बाबा के जन्मदिन, रामनवमी, गुरु पूर्णिमा और विजयादशमी प्रमुख त्योहारों के रूप में मनाए जाते हैं। इन अवसरों पर यहाँ विशेष पूजा-अर्चना और धार्मिक कार्यक्रम आयोजित होते हैं, जिनमें बड़ी संख्या में श्रद्धालु भाग लेते हैं।
 
शिरडी में घूमने का प्रमुख स्थल:
  1. साईं बाबा समाधि मंदिर: साईं बाबा समाधि मंदिर शिरडी का सबसे प्रमुख स्थल है। यहाँ साईं बाबा की समाधि स्थित है और इस मंदिर में उनकी संगमरमर की मूर्ति स्थापित है। हर साल लाखों श्रद्धालु इस मंदिर में बाबा के दर्शन करने आते हैं।
  2. द्वारकामाई: यह वह मस्जिद है जहाँ साईं बाबा ने अपने जीवन का अधिकांश समय बिताया। यहाँ बाबा का धूनी (पवित्र अग्नि) भी है, जो हमेशा जलता रहता है। द्वारकामाई में बाबा की अनेक यादें बसी हुई हैं। यह स्थान श्रद्धालुओं के लिए अत्यंत पवित्र माना जाता है क्योंकि बाबा यहाँ बैठकर लोगों की समस्याओं का समाधान करते थे और उन्हें आशीर्वाद देते थे।
  3. चावड़ी: चावड़ी वह स्थान है जहाँ बाबा हर दूसरे दिन विश्राम करते थे। यहाँ बाबा की पालकी यात्रा भी होती है, जो एक धार्मिक आयोजन है और श्रद्धालुओं के बीच अत्यंत लोकप्रिय है।
  4. गुरुस्थान: गुरुस्थान वह स्थान है जहाँ साईं बाबा ने अपनी गुरुपूर्णिमा का पर्व मनाया था। यहाँ पर एक नीम का पेड़ है, जिसके नीचे बाबा बैठा करते थे। यहीं पर एक छोटा मंदिर भी है जहाँ साईं बाबा की पूजा की जाती है। यह स्थान बाबा के प्रारंभिक जीवन से जुड़ी अनेक कहानियों का साक्षी है। 
  5. कंडोबा मंदिर: यह मंदिर शिरडी के पास स्थित है और इसे बहुत पवित्र माना जाता है। कहा जाता है कि साईं बाबा सबसे पहले यहाँ प्रकट हुए थे और यहाँ के पुजारी ने ही उन्हें शिरडी में प्रवेश कराया था।
  6. लक्ष्मीबाई शिंदे का घर: लक्ष्मीबाई शिंदे साईं बाबा की अनुयायी थीं और उनका घर आज भी साईं बाबा के श्रद्धालुओं के लिए एक महत्वपूर्ण स्थान है। यहाँ बाबा के वस्त्र और अन्य सामान देखे जा सकते हैं।
  7. साईं हेरिटेज विलेज: यह एक संग्रहालय और सांस्कृतिक केंद्र है जो साईं बाबा के जीवन और समय को दर्शाता है। यहाँ साईं बाबा के जीवन से जुड़ी घटनाओं को जीवंत किया गया है।
कैसे पहुंचे शिरडी:
शिरडी सड़क, रेल और वायु मार्ग से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन शिरडी नगर है और सबसे नजदीकी हवाई अड्डा शिरडी एयरपोर्ट है, जो शहर से लगभग 14 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। इसके अलावा मुम्बई और पुणे से भी शिरडी तक सीधी बस सेवाएँ उपलब्ध हैं।
 
शिरडी एक ऐसा स्थान है जहाँ साईं बाबा के प्रति असीम श्रद्धा और विश्वास का संगम देखने को मिलता है। यहाँ की पवित्रता, सादगी और धार्मिक माहौल हर किसी के मन को शांति और सुकून प्रदान करता है। साईं बाबा की शिक्षाओं और आदर्शों को आत्मसात करने के लिए यह स्थल एक आदर्श स्थान है, जो हर वर्ष लाखों श्रद्धालुओं को अपनी ओर आकर्षित करता है।
By continuing to use this website, you agree to our cookie policy. Learn more Ok